Saturday, 21 February 2015

महापंचापयत में खापों ने किया किसान-कीट विवाद के समझौते का प्रयास

खाप का सरकार से आह्वान, डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से बनाई जाए नई कृषि नीति 
निडाना गांव में हुई सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत
कीटों ने खाप चौधरियों से लगाई न्याय की गुहार 

महापंचायत में कीटों ने दी किसानों खुली चुनौति, उन्हें मारकर नहीं जीत पाएंगे किसान
कीटाचार्य किसानों ने खाप चौधरियों के सामने रखा कीटों का दर्द
हाईकोर्ट के सेवानिवृत जज एसएन अग्रवाल ने भी की खाप महापंचायत में शिरकत

नरेंद्र कुंडू 
जींद। जिले के निडाना गांव में शुक्रवार को आयोजित हुई सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत में खाप चौधरियों ने अनोखे एवं अद्भूत मामले किसान व कीट विवाद की सुनवाई की। खाप महापंचायत में कीटाचार्य किसानों ने बेजुबान कीटों पैरवी की। लगभग तीन घंटे चली महापंचायत में खाप चौधरियों व न्यायिक कमेटी के सदस्यों ने कीटाचार्य किसानों से सवाल जवाब किए। इसके बाद न्यायिक कमेटी ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर खाप प्रतिनिधियों को सौंपी। खाप प्रतिनिधियों ने मामले की गहनता से सुनवाई करने तथा न्यायिक कमेटी की रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद मंच से आह्वान किया कि खाप पंचायत डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से नई कृषि नीति बनाने, कीट ज्ञान की मुहिम को कृषि नीति में शामिल करने, डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से अवार्ड जारी करने तथा दूसरे किसानों को प्रशिक्षत करने के लिए कीटाचार्य किसानों को मास्टर ट्रेनर के तौर पर नियुक्त करने के लिए केंद्र सरकार से पत्र लिखकर मांग करेगी। ताकि फसलों पर बिना वजह प्रयोग हो रहे जहर से मुक्ति दिलवाकर थाली को जहरमुक्त बनाया जा सके। महापंचायत में खाप प्रतिनिधियों ने किसानों से फसलों में पेस्टीसाइड का प्रयोग नहीं करने का आह्वान कर किसान-कीट विवाद में समझौते का प्रयास किया। खाप पंचायत की अध्यक्षता जींद बेहतरा के प्रधान केके मिश्रा ने तथा मंच संचालक सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत हरियाण के संयोजक एवं बराह खाप के प्रधान कुलदीप ढांडा ने की। महापंचायत की न्यायिक कमेटी में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के सेवानिवृत्ति न्यायधीश न्यायमूर्ति एसएन अग्रवाल, खाद्य एवं कृषि विशलेषक डॉ. देवेंद्र शर्मा, हरियाणा किसान आयोग के सचिव डॉ. आरएस दलाल को शामिल किया गया था। महापंचायत में जिला कृषि उपनिदेशक डॉ. रामप्रताप सिहाग, हिसार के जिला बागवानी अधिकारी डॉ. बलजीत भ्याण, जींद के जिला उद्यान अधिकारी डॉ. रविंद्र ढांडा, मैडम कुसुम दलाल भी मौजूद रही।
जींद के निडाना गांव के एक निजी स्कूल में किसानों और कीटों के बीच पिछले लगभग चार दशकों से चली आ रही लड़ाई की सुलह करवाने को लेकर खाप महापंचायत का आयोजन किया गया। इस महापंचायत में किसानों का पक्ष जहां खुद किसानों ने रखा वहीं कीटों का पक्ष भी उन महिलाओं और पुरूषों ने रखा, जो पिछले लगभग आठ वर्षों से कपास और धान की फसलों में कीटों पर शोध कर रहे हैं और फसलों में बिना कीटनाशक दवाओं का प्रयोग किए अच्छी पैदावार ले रहे हैं। कीटाचार्य किसानों ने महापंचायत में बेजुबान कीटों की पैरवी करते हुए बताया कि कीट न तो हमारे मित्र हैं और न ही दुश्मन हैं। कीट तो फसलों में अपना जीवन चक्र चलाने के लिए आते हैं और पौध अपनी जरूरत के अनुसार भिन्न-भिन्न प्रकार की गंध छोड़कर किसानों को अपनी रक्षा के लिए बुलाते हैं। उन्होंने बताया कि उनके आठ वर्षों के अनुभव के दौरान कभी की कोई कीट फसल में नुकसान पहुंचाने के आर्थिक स्तर को पार नहीं कर पाया है। जब कीट हमारी फसलों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा रहे हैं तो फिर उन्हें बिना कसूर किसानों द्वारा फसलों में कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर क्यों मारा जा रहा है। उन्होंने बताया कि किसान व कीट की इस लड़ाई में बेजुबान कीटों की जान मुफ्त में जा रही है और इसमें किसान की जेब भी ढीली हो रही है। फसलों में अधिक जहर का प्रयोग होने से हमारा खान-पान भी दूषित हो रहा है। इसका मानव स्वास्थ्य पर काफी बुरा प्रभाव पड़ रहा है। कीटाचार्य किसानों के कीट ज्ञान को सुन कर खापों के चौधरियों के साथ-साथ खुद न्यायिक कमेटी के अध्यक्ष पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के सेवानिवृत न्यायाधीश न्यायमूर्ति एसएन अग्रवाल, सदस्य देवेंद्र शर्मा और हरियाणा किसान आयोग के सदस्य सचिव डॉ. आरएस दलाल भी हैरान रह गए। उन्हें भी लगा कि बिना वजह बेजुबान कीटों को मौत के घाट उतारा जा रहा है। खाप चौधरियों व न्यायिक कमेटी ने जब अन्य किसानों इसे लेकर सवाल किए तो किसानों ने बताया गया कि उन्हें कीटों के  बारे में इस तरह की जानकारी नहीं थी। वह तो अज्ञानतावश फसल में नुकसान के डर से इन बेजुबान कीटों को मार रहे हैं। दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद न्यायिक कमेटी व खाप इस निश्कर्ष पर पहुंचे कि इस लड़ाई में न तो किसानों का दोष है और न ही कीटों का कोई तीसरा पक्ष किसानों के भोलेपन का फायदा उठाकर इस लड़ाई को बढ़ावा दे रहा है। 

रिपोर्ट तैयार कर केंद्र सरकार को की जाएगी सिफारिश 

यह हिंदुस्तान की पहली ऐसी कोर्ट है जिसमें एक अनोखे मुकदमे की सुनवाई हुई है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में जींद जिले के किसानों का नाम इतिहास में लिखा जाएगा। जींद जिले के कीटाचार्य किसानों ने कीटों पर एक अनोखा शोध कर कृषि वैज्ञानिकों को भी पीछे छोड़ दिया है। इन किसानों को कीटों के बारे में काफी गहराई तक जानकारी है। यहां आकर इन किसानों से यह सीखने को मिला कि किस तरह मांसाहारी कीट शाकाहारी कीटों को नियंत्रित करते हैं। हिंदुस्तान के छोटे से गांव में कीटों पर इस तरह का काम हो रहा है यह देख कर मैं दंग रह गया। कीट भी परमात्मा की देन हैं। इसलिए इन्हें भी बचाया जाना चाहिए। प्रकृति ने जो सिस्टम बनाया है किसान पेस्टीसाइड का प्रयोग कर उस सिस्टम के साथ छेडख़ानी कर रहे हैं। पेस्टीसाइड मानव स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है। जींद जिले के किसानों के इस काम को कृषि नीति में शामिल करने, डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से अवार्ड जारी करवाने, इन किसानों को विशेष सुविधाएं दिलवाने के लिए के लिए एक रिपोर्ट तैयार कर केंद्र सरकार से सिफारिश की जाएगी। इसे लागू करना या ना करना सरकार का काम है। 
न्यायमूर्ति एसएन अग्रवाल, सेवानिवृत्त न्यायाधीश
हरियाणा एवं पंजाब हाईकोर्ट

महापंचायत में यह-यह खाप प्रतिनिधि रहे मौजूद 

सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत हरियाणा की महिला विंग की प्रधान डॉ. संतोष दहिया, अखिल भारतीय जाट महासभा के प्रधान ओमप्रकाश मान, कंडेला खाप प्रधान टेकराम कंडेला, पालम 360 के प्रधान रामकर्ण सौलंकी, राठी खाप के प्रधान डॉ. रणबीर राठी, बूरा खाप के वरिष्ठ उपप्रधान दयानंद बूरा, नंदगढ़ (चुढाली) गांव के प्रधान होशियार सिंह दलाल, कुंडू कालवा खाप के प्रधान सुभाष कुंडू, मंडाल तपा के प्रधान जगबीर ढुल, महम चौबिसी के प्रधान मेहर सिंह नंबरदार, दहिया खाप के प्रधान प्रताप सिंह, झाड़सा 360  गुडग़ांव के प्रधान महेंद्र ठाकरान, सतरोल खाप के प्रधान सूबेदार इंद्र सिंह, राखी बारहा खाप के प्रधान सुरेश कोथ, हाट बारहा खाप के प्रधान दयानंद, किनाना बारहा खाप के प्रधान दरिया सैनी, प्रगतिशील किसान क्लब के प्रधान राजबीर कटारिया, नगूरा बारहा खाप के प्रधान राजेंद्र दलाल, ढांडा खाप के प्रतिनिधि ओमप्रकाश ढांडा, किसान सभा हरियाणा के उपाध्यक्ष कामरेड फूल सिंह श्योकंद, खरकरामजी खाप के प्रधान सत्यवान, सफीदों बारहा के प्रधान रणबीर देशवाल, चहल खाप के संरक्षक दलीप सिंह चहल, कुंडू बारहा के प्रधान महाबीर कुंडू, लोहचब खाप के प्रधान ईश्वर लोहचब, राममेहर नंबरदार सहित लगभग 60 खापों के प्रतिनिधि मौजूद थे। 
सहित प्रदेशभर से 60 खापों के प्रतिनिधि व पंजाब के किसान भी मौजूद थे।   
 महापंचायत में अपने अनुभव रखती महिला किसान।

हमें मारकर ये जंग नहीं जीत पाएंगे किसान 

महापंचायत में कीटों ने किसानों को खुली चुनौती देते हुए कहा कि किसान उन्हें जहर से मारकर कभी भी इस जंग को किसान जीत नहीं पाएंगे। कीटाचार्य किसानों ने कीटों की तरफ से पक्ष रखते हुए बताया कि यदि किसान इसी तरह फसलों में अंधाधुंध कीटनाशकों का प्रयोग करते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब उनकी आने वाली पीढिय़ों को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। 

मांसाहारी कीट तो फसल में करते हैं कुदरती कीटनाशी का काम 

ललितखेड़ा गांव की महिला किसानों के गु्रप ने मांसाहारी कीट लेडी बर्ड बीटल की तरफ से अपना पक्ष रखते हुए बताया कि बीटल 18 किस्म की हैं और यह व इनके बच्चे सभी मांसाहारी होते हैं। शाकाहारी कीट सफेद मक्खी, हरा तेला, चूरड़ा, मिलीबग जैसे मेजर कीटों को खाकर वह फसल में कुदरती कीटनाशी का काम करती हैं। वहीं रधाना गांव के पुरुष किसानों ने मांसाहारी कीट हथजोड़े की तरफ से पक्ष रखते हुए कहा कि वह 10 किस्म के होते हैं और सूंडियां उनका प्रमुख भोजन होती हैं। किसान जिसे गादड़ की सूंडी समझता है वह दरअसल उसकी सूंडी होती है और उसकी एक अंडेदानी में 500 से 600 के लगभग बच्चे होते हैं। उसके एक बच्चे को जीवित रहने के लिए प्रतिदिन 10 सूंडियों की जरूरत पड़ती है। ललितखेड़ा गांव के पुरुष किसानों ने बुगड़ों की तरफ से प्रस्तुती देते हुए बताया कि बुगड़े सात प्रकार के होते हैं और डंक की सहायता से दूसरे कीटों का खून चूसकर कीटों का खातमा करते हैं। निडाना गांव की महिलाओं ने मक्खियों की पैरवी करते हुए बताया कि यह मक्खियां भी दूसरे कीटों का मांस खाकर अपना गुजारा करती हैं। कुछ मक्खियां तो अपने वजन से ज्यादा मांस खाती हैं। निडानी के पुरुष किसानों ने दूसरे कीटों के पेट में अंडे देने वाले परपेटियों का पक्ष रखा। 
महापंचायत में मंच पर मौजूद खाप प्रतिनिधि।

पौधे व शाकाहारी कीटों का है गहरा रिश्ता 

ईगराह गांव के पुरुष किसानों ने रस चूसक कीटों का पक्ष रखते हुए बताया कि यह कीट तो पौधे का बचा हुआ रस चूसकर पौधे की मदद करते हैं। जिस तरह रक्तदान करने से मनुष्य के शरीर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता उसी प्रकार पौधे का रस चूसने से पौधे पर भी कोई दूष्प्रभाव नहीं पड़ता। निडाना गांव के पुरुष किसानों ने पत्तेखाने वाले कीटों की पैरवी करते हुए बताया कि पत्ते खाने वाले कीट ऊपर के पत्तों में छोटे-छोटे सुराख कर देते हैं। इससे नीचे के पत्तों तक भी धूप पहुंच जाती है और नीचे के पत्ते भी पौधे के लिए भोजन बना देते हैं। ईगराह के किसानों ने फूलाहारी कीटों का पक्ष रखते हुए बताया कि कीट तो फसल में परपरागन में सहायता करते हैं। कीटों की सहायता से ही फूल के नर भाग के परागकण मादा तक पहुंच पाते हैं। रधाना गांव के किसानों ने फलाहारी कीटों का पक्ष रखते हुए बताया कि कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार पौधा अपना 65 प्रतिशत फल गिरा देता है और इसी फल को खाकर यह कीट पौधे की मदद करते हैं। 
मंच पर किसानों को संबोधित करते सेवानिवृत्त न्यायाधीश एसएन अग्रवाल।

फसल को नुकसान से बचाने के लिए करते हैं स्प्रे

निडाना के सुरेंद्र किसान ने आम किसान का पक्ष रखते हुए बताया कि किसान तो अपनी फसल को कीटों के नुकसान से बचाने के लिए फसल में कीटनाशकों का प्रयोग करते हैं। कीट किसान के लिए इतने लाभदायक होते हैं, उसके बारे में तो उन्हें जानकारी ही नहीं है। 

हमें सुविधाएं स्वच्छ वातावरण व शुद्ध खान-पान चाहिए

निडाना तथा निडानी के बच्चों ने प्रस्तुति देते हुए बताया कि दूषित हो रहे खान-पान के कारण वह भिन्न-भिन्न किस्म की बीमारियां की चपेट में आ रहे हैं। उन्होंने खाप चौधरियों से गुहार लगाई कि उन्हें सुविधाएं नहीं उन्हें तो वह स्वच्छ वातावरण चाहिए जो उनके पूर्वज उनके लिए छोड़कर गए  थे। 

खाप चौधरियों व न्यायिक कमेटी के सदस्यों किसानों से किए सीधे सवाल

महापंचायत में मौजूद खाप प्रतिनिधियों व न्यायिक कमेटी के सदस्यों ने कीटाचार्य किसानों से सीधे सवाल जवाब किए। खाप चौधरियों ने कहा कि जब किसानों का कोई दोष नहीं है और न ही कीटों का तो फिर यह लड़ाई कैसे शुरू हुई। कीटाचार्य किसानों ने बताया कि पेस्टीसाइड कंपनियों ने किसानों को गुमराह कर इस लड़ाई के मैदान में उतार दिया है। खाप प्रतिनिधि सुरेश कोथ ने जब पिछले दो वर्षों से उनके क्षेत्र में शाकाहारी कीट सफेद मक्खी के प्रकोप का दुखड़ा जब पंचायत में सुनाया तो किसानों ने बताया कि यह सब कीटनाशकों के अधिक प्रयोग के कारण हो रहा है। कीटनाशकों के प्रयोग से शाकाहारी कीटों की संख्या बढ़ती है। 

99 प्रतिशत कीटनाशक वातावरण व जमीन में बेकार चला जाता है। 

मंच पर मौजूद न्यायिक कमेटी के सदस्य।
खाद्य एवं कृषि विशलेषक डॉ. देवेंद्र शर्मा ने बताया कि उन्होंने कृषि क्षेत्र में शोध के दौरान विभिन्न देशों का दौरा किया है और जो जानकारी उन्हें जींद जिले के किसानों से मिली है वैसी कहीं से भी नहीं मिली। डॉ. देवेंद्र शर्मा ने बताया कि किसान कीटों से फसलों को बचाने के लिए जिस पेस्टीसाइड का प्रयोग करते हैं, उसका ९९ प्रतिशत हिस्सा वातावरण व जमीन में चला जाता है। इससे हमारा वातावरण व खान-पान दूषित हो रहा है। उन्होंने एक साइंस मैगजीन का जिक्र करते हुए बताया कि पिछले साल तीन लाख लोगों ने आत्महत्या की है जिसका कारण पेस्टीसाइड है। उन्होंने बताया कि आज बच्चा मां के गर्भ में भी सुरक्षित नहीं है। गर्भ से ही बच्चे के अंदर पेस्टीसाइड के अंश पहुंच जाते हैं। 
पंचायत में भाग लेती महिला किसान।

  भोलेपन के चलते बेजुबान और बेकसूर कीटों को मार रहा है किसान 

न्यायिक कमेटी के सामने किसान और कीट दोनों का पक्ष अच्छी तरह से रखे जाने के बाद जस्टिस एसएन अग्रवाल की अध्यक्षता वाली ज्यूरी ने मौके पर यह व्यवस्था दी कि कई दशकों से किसानों और कीटों के बीच चली आ रही जंग में कीट बिना कसूर मरता रहा और किसान अपने भोलेपन के चलते अपनी जेब ढीली कर बेजुबान और बेकसूर कीटों को मारता रहा। दोनों में किसी का दोष नहीं था। इसके चलते ज्यूरी ने दोनों पक्षों के बीच समझौता करवाने का प्रयास किया। इसमें किसान ने यह तय किया कि अब वह अपनी फसलों में बिना वजह अंधाधुंध तरीके से कीटनाशक दवाओं का छिड़काव नहीं करेगा। साथ ही महापंचायत ने केंद्र सरकार के लिए एक प्रस्ताव भी पारित किया, जिसमें मांग की गई कि सरकार अपनी कृषि नीति में इस बात को शामिल करे की फसलों पर कीटनाशक दवाओं का अंधाधुंध छिड़काव नहीं हो। पूरे देश में जहर मुक्त थाली को लेकर सरकार एक बड़ा अभियान चलाए। इसके अलावा खाप पंचायतों ने भी अपने स्तर पर पूरे देश में जहर मुक्त थाली का अभियान चलाने का फैसला किया। खाप महापंचायत में हरियाणा के साथ-साथ पंजाब के किसानों ने भी भाग लिया। उत्तर भारत की 60 से ज्यादा खापों के प्रतिनिधि इस महापंचायत में शामिल हुए। 
मंच पर मौजूद खाप प्रतिनिधि।

किसानों ने हाथ उठाकर खाप के निर्णय का किया समर्थन

खाप महापंचायत में न्यायिक कमेटी ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर खाप प्रतिनिधियों को सौंपी। सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत के संयोजक कुलदीप ढांडा ने किसानों से पूछा कि खाप जो फैसला करेगी किसान उससे मंजूर करेंगे, तो किसानों ने हाथ उठाकर खाप के फैसले को स्वीकार करने का समर्थन किया। खाप पंचायत में फैसला लिया गया कि कीट साक्षरता के अग्रदूत डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से नई कृषि नीति बनाने, कीट ज्ञान की मुहिम को इस नीति में शामिल करने, डॉ. सुरेंद्र दलाल के नाम से अवार्ड देने, कीटाचार्य किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए खाप पंचायत एक प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजेगी। 

महापंचायत में मंच पर मौजूद हरियाणा एवं पंजाब हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायधीश एसएन अग्रवाल, हरियाणा किसान आयोग के सदस्य सचिव डॉ. आरएस दलाल व डॉ. देवेंद्र शर्मा। 












No comments:

Post a Comment