Friday, 3 August 2012

किसान-कीट मुकदमे की सुनाई में खाप पंचायतों के साथ पहुंचे कृषि अधिकारी



 किसानों के सामने अपने विचार रखते कृषि विभाग के अधिकारी।
 कृषि विभाग के उपनिदेशक को स्मृति चिह्न भेंट करते निडाना के किसान।
नरेंद्र कुंडू
जींद।
कीट-किसान मुकदमे की सुनवाई के लिए मंगलवार को निडाना गांव की किसान खेत पाठशाला में खाप पंचायत की तरफ से नौगाम खाप के प्रधान कुलदीप सिंह रामराये, लोहाना खाप के प्रतिनधि रामदिया तथा पूनिया खाप की तरफ से जोगेंद्र सिंह पहुंचे। खाप पंचायतों के अलावा हिसार के कृषि उपनिदेशक डा. रोहताश, बीएओ डा. महीपाल, एडीओ डा. मांगेराम भी विशेष रूप से मौजूद थे। खाप पंचायतों व कृषि अधिकारियों ने नरमे के खेत में बैठकर कीट मित्र किसानों के साथ कीटों की पढ़ाई पढ़ी। कीट मित्र किसान रणबीर रेढू ने बताया कि पहले उन्हें कपास की फसल में पाए जाने वाले सिर्फ 109 कीटों की पहचान थी। जिसमें 83 कीट मासाहारी तथा 26 कीट शाकाहारी थे। लेकिन अब उन्होंने कपास की फसल में 140 कीटों की पहचान कर ली है। जिसमें 43 कीट शाकाहारी तथा 97 कीट मासाहारी हैं। रेढू ने बताया कि शाकहारी कीटों में 20 किस्म के रस चूसक, 13 प्रकार के पर्णभक्षी, तीन प्रकार के फलाहारी तथा तीन प्रकार के पुष्पाहारी कीट मौजूद हैं। इसके बाद किसानों ने फसल में किए गए अवलोकन के आंकड़े दर्ज करवाए। किसानों ने बताया अवलोकन के दौरान उन्होंने कपास की फसल में कातिल बुगड़ा, लेडी बिटल, 5 तहर की मकड़ी, दिखोड़ी, फलेहरी बुगड़ा, डायन मक्खी, बुगड़े, हथजोड़ा, क्राइसोपा के अंडे व बच्चे, मकड़ी मकड़ी व टिडे का शिकार करते देखी। इसके अलावा मकड़ी द्वारा सफेद मक्खी का शिकार करते देखा गया। किसान रमेश ने अपने अनुभव के बारे में बताते हुए कहा कि उसने 24 जुलाई को सिंगुबुगड़े अंडे देते हुए पकड़ा था। रमेश ने बताया कि सिंगुबुगड़े के अंडे से बच्चे बनने में 115 घंटे यानि चार-पांच दिन का समय लगता है। उसने बताया कि इसके बाद बच्चे तीन दिन में एक बार कांजली भी  उतारते हैं। रमेश ने बताया कि 25 जुलाई को उसने कातिल बुगड़ा नामक कीट को पकड़ा था। कातिल बुगड़े ने 24 घंटे के दौरान 6 सलेटी भूडों को चट कर दिया। रमेश ने खाप प्रतिनिधियों को समझाते हुए कहा कि कातिल बुगड़े के अंडों से बच्चे निकलने में 113 घंटे लगते हैं। पाठशाला के संचालक डा. सुरेंद्र दलाल ने कहा कि कपास की फसल में परपरागण में कीटों की अहम भूमिका होती है। इसका प्रमाण किसान 2001 में देख चुके हैं। 2001 में किसानों ने कपास की फसल में 40 के लगभग स्प्रे किए थे। यानि के किसान तीन दिन में एक बार कपास की फसल में कीटनाशक का छिड़काव करते थे। डा. दलाल ने कहा कि जब कीटों के बच्चों को अंडे से निकलने में चार से पांच दिन का समय लगता है और किसान तीन दिन में एक बार स्प्रे का प्रयोग करते थे। यानि के किसान बच्चों को पैदा होने से पहले ही लपेटे में ले लेते थे। फसल में कीटों की मौजूदगी न होने के कारण परागण प्रक्रिया भी  नहीं हो सकी। जिसका सीधा प्रभाव पैदावार पर पड़ा। इससे यह बात सिद्ध होती है कि अगर फसल में कीट होंगे तो परागण क्रिया होगी नहीं तो परागण क्रिया पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। जिससे उत्पादन भी कम होगा। बराह कलां बाराह के प्रधान कुलदीप ढांडा ने कहा कि जिस क्षेत्र में कॉटन की अधिक पैदावार होती है, वहां कैंसर के मरीजों की संख्या में भी बढ़ोतरी हो रही है। क्योंकि कॉटन की फसल में सबसे ज्यादा कीटनाकशें का प्रयोग होता है। ढांडा ने पंजाब के भठिंडा का उदहारण देते हुए कहा कि भठिंडा में कॉटन की ज्यादा पैदावार होती है और वहां कैंसर के मरीजों की संख्या भी काफी ज्यादा है। भठिंडा में 10 में से 9 लोग कैंसर से पीडि़त हैं। हिसार से आए एडीओ डा. मांगे राम ने बताया कि 2003 में उसने तीन एकड़ में देसी कपास की फसल लगाई थी। इस दौरान उसने एक बार भी अपनी फसल में कीटनाशकों का प्रयोग नहीं किया और फिर भी उसे 19 मण प्रति एकड़ की पैदावार मिली। पाठशाला में लाडवा (हिसार) व बहादुरगढ़ के किसान भी विजिट के लिए पहुंचे थे।
निडाना के किसानों ने एक अनोखी पहल की है। इस मुहिम को आगे बढ़ाने के लिए वे अपने क्षेत्र के किसानों को यहां पर ट्रेनिंग के लिए भेजेंगे। आज उनके साथ जो कृषि अधिकारी आए हैं, उन्हें भी अपने-अपने क्षेत्र में इस तरह की पाठशाला चलाने के लिए प्रेरित करेंगे। ताकि इस मुहिम को आगे बढ़ाकर देश के कोने-कोने तक पहुंचाया जा सके और थाली से जहर को कम किया जा सके।
डा. रोहताश
कृषि उपनिदेशक, हिसार

No comments:

Post a Comment