Sunday, 13 May 2012

अब विश्व में लहराएगा हरियाणा का परचम

हरियाणा के गौरव पूर्ण इतिहास की विश्व में पहचान बनाने के लिए तीन भाषाओं में किया वेबसाइट का निर्माण
नरेंद्र कुंडू
इंटरनेट पर निडाना हाईटस के नाम से तैयार की गई वेबसाइट का फोटो।
जींद। हरियाणवी संस्कृति को विश्व में पहचान दिलाने तथा इंटरनेट पर भी हरियाणवी विश्वकोष बनाने के उद्देश्य से जींद जिले के एक होनहार ने विदेश में बैठकर एक वेबसाइट तैयार की है। फ्रांस के लीली शहर में ई-विपणन और वेब प्रबंधन सलाहकार के पद पर नौकरी कर रहे फूलकुमार ने डब्ल्यूडब्ल्यूडब्लयू डॉट निडानाहाईटस डाट कॉम वेबसाइट पर निडाना के गौरवशाली इतिहास व जींद जिले की उपलब्धियों के अलावा हरियाणवी संस्कृति से जुड़ी सभी जानकारियां उपलब्ध करवाई हैं। वेबसाइट का निर्माण अंग्रेजी, हिंदी व हरियाणवी तीन भाषाओं में किया गया है। इस वेबसाइट की सबसे खास बात यह है कि इस वेबसाइट पर हरियाणवी संस्कृति के अलावा किसानों के लिए मौसम व कृषि संबंधि जानकारी, पाठकों के लिए ई-लाइब्रेरी, विद्यार्थियों के लिए नौकरियों से संबंधित जानकारी, हरियाणवी मुहावरे, हरियाणवी संस्कृति, तीज-त्योहारों से संबंधित जानकारियां, मनोरंजन के लिए हरियाणवी रागनियां तथा कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक कुरीतियों के प्रति लोगों में जागरुकता लाने के लिए संदेश डाले गए हैं। इस प्रकार इस होनहार की सोच से लोगों को एक ही वेबसाइट पर काफी जानकारियां उपलब्ध हो जाएंगी। विद्यार्थियों के अलावा किसानों को भी  इस वेबसाइट से काफी लाभ मिलेगा। फूलकुमार ने वेबसाइट तैयार करने की शुरूआत 23 जनवरी 2012 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती से की और 19 अप्रैल 2012 को पहली बार इंटरनेट पर परीक्षण के लिए अपलोड किया गया। वेबसाइट के प्रति लोगों में अच्छा रूझान बना हुआ है। इसी का परिणाम है कि मात्र 18 दिन में इस वेबसाइट को 5693 लोग देख चुके हैं। फूलकुमार द्वारा तैयार की गई इस वेबसाइट से अब निडाना गांव भी हाईटेक हो गया है। वेबसाइट तैयार होने के बाद लोगों को एक ही जगह पर कई प्रकार की जानकारियां तो मिलेंगी ही, साथ-साथ हरियाणवी संस्कृति का परचम भी अब विश्व में लहराएगा।
कैसे मिली प्रेरणा
जींद जिले के निडाना गांव निवासी फूलकुमार का बचपन गांव में ही बीत तथा पढ़ाई-लिखाई भी ग्रामीण आंचल में ही हुई। फूलकुमार को हरियाणवी संस्कृति के प्रति प्रेम व लगाव की भावना अपने स्वर्गीय दादा फतेह सिंह मलिक व स्वर्गीय दादी धनकौर से विरास्त में मिली है। गांव में पढ़ाई-लिखाई करने के बाद 2005 में नौकरी के लिए फूलकुमार फ्रांस में चला गया। इसके बाद वहां से नवंबर 2011 में अपनी बहन की शादी में शरीक होने के लिए फूलकुमार वापिस गांव में आया। गांव में कृषि विभाग के एडीओ डा. सुरेंद्र दलाल के सानिध्य में चल रही महिला कीट साक्षरता केंद्र में महिलाओं की उपलब्धियों को देखकर ही फूलकुमार को अपनी संस्कृति को विश्व में पहचान दिलाने की प्रेरणा मिली।

वेबसाइट के लिए कैसे जुटाई जानकारी

अपने इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए फूलकुमार ने डा. सुरेंद्र दलाल से संपर्क किया। डा. सुरेंद्र दलाल के नेतृत्व में वेबसाइट के लिए हरियाणवी संस्कृति से संबंधित व अन्य जानकारियां जुटाने के लिए निडाना हाईटस सलाहकार बोर्ड कोर टीम तथा निडाना हाईटस सलाहकार बोर्ड सहायता टीम का गठन किया गया। सहायता बोर्ड टीम के सदस्यों ने वेबसाइट के बारे में अपनी राय कोर टीम के सदस्यों के समक्ष रखी। इसके बाद कोर टीम के सदस्यों ने इनकी राय पर विचार-विमर्श कर इनमें सुधार कर वेबसाइट के लिए उपयोगी जानकारियां फूलकुमार को दी। इसके बाद फूलकुमार ने टीम के सदस्यों से मिली जानकारी व सामग्री की मदद से वेबसाइट का निर्माण शुरू किया। वेबसाइट का डिजाइन फूलकुमार ने स्वयं तैयार कर रहा है। विश्व में हरियाणवी संस्कृति की पहचान बनाने के लिए फूलकुमार ने इस वेबसाइट को अंग्रेजी, हिंदी व हरियाणवी तीन भाषाओं में तैयार किया है। ताकि विश्व में हरियाणवी संस्कृति को अलग से पहचान मिल सके और हमारी आने वाली पीढ़ी भी इस वेबसाइट से हमारी प्राचीन संस्कृति के बारे में जानकारी जुटा सके। वेबसाइट को समय-समय पर अपडेट भी किया जाएगा।

क्या है वेबसाइट की विशेषता

निडाना हाईटस के नाम से तैयार इस वेबसाइट पर लोगों को एक साथ सभी प्रकार की सुविधाएं मिल सकेंगी। इस वेबसाइट पर हरियाणा के गौरव पूर्ण इतिहास के अलावा हरियाणवी रीति-रिवाज, हरियाणवी मुहावरे, मनोरंजन के लिए रागनियां, हरियाणवी गीत, हरियाणवी फिल्म, पाठकों के लिए ई-लाइब्रेरी, किसानों के लिए खेती व मौसम संबंधि जानकारी, नौकरियों से संबंधित जानकारियां उपलब्ध करवाई गई हैं। कन्या भ्रूण हत्या व अन्य सामाजिक कुरीतियों के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए वेबसाइट पर संदेश भी डाले गए हैं। लोगों से राय लेने के लिए कॉमेंट का आपशन भी दिए गया है। ताकि लोग वेबसाइट के लिए अपनी राय उन तक पहुंचा सकें।


No comments:

Post a Comment