पंचायत सशक्तिकरण को बढ़ावा देते हुए आईटी विलेज ने की मिशाल कायम

नरेंद्र कुंडू
जींद।
देश की पहली हाईटेक पंचायत बीबीपुर ने अन्य पंचायतों के सामने एक और मिसाल कायम कर दी है। आईटी विलेज की पंचायत ने देश की पंचायतों को सशक्तिकरण की राह दिखाई है। पंचायत ने रिकार्ड कायम करते हुए 21 माह में 88 बैठकें कर 274 प्रस्ताव पारित कर दिखाए हैं। एक तरफ जहां अन्य पंचायतें अपने पूरे कार्याकाल में विधिवत रूप से एक भी ग्राम सभा का आयोजन नहीं कर पाती वहीं आईटी विलेज की पंचायत ने इन 21 माह में 88 बैठकों के अलावा 12 ग्राम सभाएं कर अन्य पंचायतों तथा प्रशासन के सामने एक उदहारण पेश किया है। पंचायत ने एचआरडीएफ स्कीम के तहत 2, वैट स्कीम के तहत 4, मनरेगा स्कीम के तहत 11, पीआरआई स्कीम के तहत 16, सामान्य कार्यवाही के तहत 173, नई कार्यवाही के तहत 14 तथा 12 ग्राम सभाओं में 54 प्रस्ताव पास कर गांव को प्रगति की ओर अग्रसर किया है। पंचायत ने ग्राम सभा में सरपंच के अलावा 14 मैंबरों तथा गांव की कूल वोटर संख्या के 10 प्रतिशत आबादी के समक्ष गांव में होने वाले विकास कार्यों के प्रस्ताव पास कर विधिवत रूप से ग्राम सभा की वीडियो रिकार्डिंग करवा कर प्रशासनिक अधिकारियों को भी इसकी रिपोर्ट भेजी है।
आईटी विलेज बीबीपुर की पंचायत ने एक ओर मिशाल कायम करते हुए पंचायत सशक्तिकरण को बढ़ावा देने का कार्य किया है। बीबीपुर की पंचायत ने लीक से हटकर नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए अन्य पंचायतों को भी विकास की ओर अग्रसर होने के लिए राह दिखाई है। पंचायत ने 27 जुलाई 2010 से 27 अप्रैल 2012 यानि मात्र 21 माह में 88 बैठकें कर 274 प्रस्ताव पारित कर यह साबित कर दिया है कि अगर गांव में विकास की गंगा बहाने के लिए सरकार के खजाने से ग्रांट निकलवानी है तो विधिवत रूप से बैठकों में प्रस्ताव पास कर सरकारी अधिकारियों को ग्रांट देने पर विवश किया जा सकता है। क्योंकि पंचायत ने बैठक कर जितने भी प्रस्ताव पास किए हैं सभी प्रोजेक्टों को सरकार की तरफ से मंजूरी मिल चुकी है। एक तरफ जहां अपने पूरे कार्यकाल में ग्राम पंचायत एक भी ग्राम सभा  नहीं कर पाती वहीं आईटी विलेज की पंचायत ने 21 माह में पूरे विधिवत तरीके से 12 ग्राम सभाएं कर कुल 54 प्रस्ताव भी पास किए हैं। इन ग्राम सभाओं में पास किए गए कार्यों की वीडियो रिकार्डिंग करवा प्रशासनिक अधिकारियों को भी इसकी रिपोर्ट भेजी है।

किस-किस स्कीम के तहत किए प्रस्ताव पास

आईटी विलेज की पंचायत ने 27 जुलाई 2010 से 27 अप्रैल 2012 यानि 21 माह में ग्राम सभा सहित कुल 88 बैठक कर 274 प्रस्ताव पास किए हैं। जिसमें एचआरडीएफ स्कीम के तहत 2, वैट स्कीम के तहत 4, मनरेगा स्कीम के तहत 11, पीआरआई स्कीम के तहत 16, सामान्य कार्यवाही के तहत 173, नई कार्यवाही के तहत 14 तथा 12 ग्राम सभाओं में कुल 54 प्रस्ताव पास किए हैं।
कार्य शुरू करवाने के लिए रेजूलेशन तैयार करना जरुरी
गांव में किसी भी प्रकार का विकास कार्य करवाने के लिए रेजूलेशन तैयार करना जरुरी होता है। रेजूलेशन तैयार करने के लिए पंचायत के सभी सदस्यों की विधिवत रूप से बैठक बुलाई जाए। बैठक में मौजूद पंचायत के सभी सदस्यों के समक्ष विकास कार्य के लिए रेजूलेशन तैयार कर उस पर सभी पंचायत सदस्यों के हस्ताक्षर करवा मंजूरी के लिए जिला प्रशासन के पास भेजा जाए। पंचायत ने लीक से हटकर कुछ ऐसे रेजूलेशन पास किए हैं, जो अन्य पंचायतें नहीं करवाती। गांव में होने वाले विकास कार्यों में ग्राम सचिव राजेश कुमार का अहम योगदान रहा है।
सुनील जागलान, सरपंच
ग्राम पंचायत बीबीपुर, जींद

क्या-क्या करवाए विकास कार्य

रेजूलेशन डालकर गांव की वेबसाइट तैयार करवाना।
गांव में अन्न भंडारण के लिए केंद्रीय भंडारण निगम को गोदाम के निर्माण के लिए रेजूलेशन •ोजना।
अनाथ व बेसहारा बच्चों को आसरा देने के लिए बाल व सुधार गृह के निर्माण के लिए रेजूलेशन देना।
बैठक में रेजूलेशन तैयार कर गांव में राजीव गांधी सेवा केंद्र का निर्माण करवाना।
पंचायत घर का निर्माण करवाने के लिए रेजूलेशन तैयार करना।
सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए 15 अगस्त व 26 जनवरी पर सौर ऊर्जा की लाइटें वितरित करने के लिए प्रस्ताव पास करना।
रेजूलेशन तैयार कर पाइलेट प्रोजैक्ट के तहत गांव में पानी संरक्षण सिस्टम का निर्माण करवाना।
ठोस कचरा प्रबंधन के निर्माण के लिए प्रस्ताव पास करना।
मनरेगा के तहत सभी गलियों की सफाई करवाने के लिए प्रस्ताव पास करना।
मनरेगा के तहत प्रस्ताव पास कर वाटर कंजर्वेशन एंड हारवेस्टिंग सिस्टम का निर्माण करवाना।
पीआरआई स्कीम के तहत रेजूलेशन डाल कर हाई मास्क लाइट लगवाना।
रेजूलेशन तैयार कर गांव के तालाबों व सार्वजनिक स्थलों पर  सिक्स सिटर चेयर लगवाना।
पक्षियों के संरक्षण की पहल करने के लिए प्रस्ताव पास करना।
मुर्राह नस्ल को बढ़ावा देने के लिए प्रस्ताव पास कर मुर्राह नस्ल के भैसें खरीदना।
 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें