....ताकि बरकरार रहे सफेद सोने की चमक

कपास के रकबे को बढ़ाने के लिए कृषि वि•ााग अधिकारियों को दिलवाएगा ट्रेनिंग

नरेंद्र कुंडू
जींद।
सफेद सोने की चमक को बरकरार रखने तथा कपास की खेती के प्रति किसानों का मोह बढ़ाने के लिए कृषि विभाग ने एक खास योजना तैयार की है। इस योजना को मूर्त रुप देने के लिए कृषि विभाग अपने सभी कृषि विकास अधिकारियों (एडीओ) को खास तौर से प्रशिक्षित करेगा। कृषि विकास अधिकारियों को प्रशिक्षित करने के लिए विभाग द्वारा 21-21 दिनों के तीन प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन किया जाएगा। प्रत्येक 21 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में 30 कृषि विकास अधिकारी भाग लेंगे। जिनमें कपास उत्पादक क्षेत्रों से दो-दो तथा बिना कपास उत्पादन वाले क्षेत्रों से एक-एक अधिकारी को शामिल किया जाएगा। यहां से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद कृषि विकास अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र के किसानों को कपास की खेती के लिए प्रेरित करेंगे तथा किसानों को कम खर्च से अधिक उत्पादन लेने के गुर सिखाएंगे। विभाग द्वारा इन प्रशिक्षण शिविरों पर दस लाख रुपए की राशि खर्च की जाएगी।
किसानों को कपास की तकनीकी जानकारी उपलब्ध करवाने तथा जिले में कपास के रकबे को बढ़ाने के लिए कृषि विभाग कृषि अधिकारियों को ट्रेंड करेगा। इसके लिए विभाग द्वारा किसान प्रशिक्षण केंद्र (हमेटी) में 21-21 दिवसीय तीन प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन किया जाएगा। प्रत्येक शिविर में 30 कृषि विकास अधिकारी भाग लेंगे। विभाग द्वारा तैयार की गई इस योजना का मुख्य उद्देश्य कपास की खेती की तरफ किसानों का रुझान बढ़ाना है। विभाग द्वारा उठाए गए इस कदम से किसानों को काफी लाभ मिलेगा। विभाग द्वारा ट्रेंड किए गए इन अधिकारियों से किसानों को काफी कुछ सीखने को मिलेगा। शिविर के दौरान अधिकारियों को फसल में आने वाली समस्याओं से निपटने के लिए नई-नई तकनीकी जानकारियां उपलब्ध करवाई जाएंगी। ताकि फील्ड में उतरने के बाद ये अधिकारी किसानों को खेती के क्षेत्र में आत्म निर्भर बना सकें। प्रशिक्षण शिविर में कपास उत्पादन वाले क्षेत्रों से दो-दो व बिना कपास उत्पादन वाले क्षेत्रों से एक-एक अधिकारियों को शिविर में शामिल किया जाएगा। विभाग द्वारा कृषि विकास अधिकारियों को हाईटैक बनाने के लिए प्रशिक्षण शिविरों पर 10 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद कृषि विकास अधिकारी अपने क्षेत्र के किसानों को नवीनतम तकनीकों को जरिए कम खर्च से अधिक उत्पादन प्राप्त करने के गुर सिखाएंगे।

कपास से संबंधित संस्थानों का भी करवाया जाएगा भ्रमण

विभाग द्वारा कृषि अधिकारियों को बौद्धिक ज्ञान के साथ-साथ व्यवहारिक ज्ञान अर्जित करवाने के लिए शिविर के दौरान कपास से संबंधित केंद्र सरकार के संस्थानों का भ्रमण करवाया जाएगा। यहां पर मास्टर ट्रेनरों द्वारा कृषि विकास अधिकारियों को कपास की खेती का व्यवहारिक ज्ञान देकर मौके पर ही इनकी सभी संकाओं का समाधान किया जाएगा। ताकि फील्ड में उतरने के बाद कपास की खेती से संबंधित किसी प्रकार की समस्या इनकी राह का रोड़ा न बन सके।

किसानों को हाईटैक बनाने के लिए उठाया कदम

विभाग ने कपास के रकबे को बढ़ाने तथा कपास उत्पादक किसानों को हाईटैक बनाने के लिए यह कदम उठाया है। विभाग द्वारा उठाए गए इस कदम से किसानों को काफी लाभ होगा। शिविर में कृषि विकास अधिकारियों को इस तरह से ट्रेंड किया जाएगा कि अधिकारी मौके पर ही किसान की कपास की फसल से संबंधित समस्या का निपटारा कर सकें। तीनों प्रशिक्षण शिविरों पर विभाग द्वारा 10 लाख रुपए की राशि खर्च की जाएगी।
बीएस नैन, निदेशक
किसान प्रशिक्षण केंद्र, जींद


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें