8 माह से फस्र्ट एड सर्टीफिकेट के लिए रैडक्रास कार्यालय के चक्कर काट रहे युवा



नरेंद्र कुंडू 
जींद। जिला रैडक्रास कार्यालय से प्राथमिक चिकित्सा सहायता का प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवाओं के हाथ 8 माह बाद भी खाली हैं। इन युवाओं को 8 माह का लंबा समय गुजरने के बाद भी अपने फर्स्ट एड के सर्टीफिकेट नहीं मिल पा रहे है। युवाओं को फर्स्ट एड के सर्टीफिकेट के लिए बार-बार रैडक्रास कार्यालय के चक्कर काटने पड़ रहे हैं लेकिन यहां पर हर बार उन्हें निराशा ही हाथ लगती है। जिला रैडक्रास कार्यालय के पास अभी तक फरवरी माह में प्रशिक्षण लेने प्रशिक्षुओं के ही प्रमाण पत्र आए हैं। युवाओं को समय पर फर्स्ट एड के सर्टीफिकेट नहीं मिलने के कारण युवाओं का भविष्य अंधकारमय है क्योंकि बिना फर्स्ट एड सर्टीफिकेट के ये नौकरी के लिए आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। इस प्रकार रैडक्रास अधिकारियों की लापरवाही का दंश बेचारे बेरोजगार युवाओं को झेलना पड़ रहा है।
प्राथमिक चिकित्सा सहायता का प्रमाण पत्र लेने की चाह में हर माह जिला रैडक्रास सोसायटी कार्यालय में सैंकड़ों युवा प्रशिक्षण लेने के लिए आते हैं। इसके लिए रैडक्रास द्वारा प्रत्येक आवेदक से दाखिले के लिए बाकायदा 500 रुपए की फीस जमा करवाई जाती है। दाखिला प्रक्रिया पूरी होने के बाद रैडक्रास कार्यालय में ही 10 दिनों तक प्राथमिक चिकित्सा सहायता के प्रशिक्षण के लिए कक्षाओं का दौर चलता है। जिसके प्रत्येक बैच में तकरीबन 100 से 300 तक युवक मौजूद रहते हैं। कई बार तो प्राथमिक चिकित्सा सहायता से संबंधित नौकरियों निकलने पर तो यहां आमल ओर ही होता है। प्रशिक्षण लेने के लिए युवाओं में मारामारी रहती है। 10 दिन के प्रशिक्षण के बाद विधिवत रूप से युवाओं से टैस्ट भी लिया जाता है। टैस्ट के दौरान ही रैडक्रास कार्यालय में प्रशिक्षण लेने वाले युवाओं के लिए रक्तदान कैंप का आयोजन भी किया जाता है। लेकिन यहां सभी प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद भी युवाओं के हाथ मायूसी ही लग रही है। पिछले 8 माह से युवा अपने फर्स्ट  एड के सर्टीफिकेट के लिए रैडक्रास कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं लेकिन यहां इनकी सुनने वाला कोई नहीं है। यहां से हर बार इन्हें वही रटारटाया जवाब मिलता है कि अभी तक पीछे से ही उनके सर्टीफिकेट नहीं आए हैं। रैडक्रास सोसायटी के आला अधिकारियों की लापरवाही के कारण पिछले 8 माह से हजारों युवा अपने सर्टीफिकेट के इंतजार में है। अभी तक जिला रैडक्रास कार्यालय में सिर्फ फरवरी माह में प्रशिक्षण लेने वाले युवकों ही सर्टीफिकेट आए हैं। समय पर युवाओं को अपने सर्टीफिकेट नहीं मिलने के कारण उनके भविष्य पर तलवार लटी हुई है लेकिन रैडक्रास के अधिकारियों को इन युवाओं के भविष्य की कोई फिक्र नहीं है। 
क्यों पड़ती है फर्स्ट एड के सर्टीफिकेट की जरूरत
कंडैक्टरी लाइसैंस बनवाने, प्राथमिक चिकित्सक की ट्रेनिंग के लिए, आर्मी में गजटीड रैंक की पोस्ट पर भत्ती   के लिए, फैक्टरियों या कंपनियों में प्राथमिक चिकित्सक के पद पर नौकरी सहित अन्य कई विभागों में भी फस्र्ट एड के सर्टीफिकेट की जरूरत पड़ती है। 

रैडक्रास सचिव ने नहीं उठाया फोन

इस बारे में जब जिला रैडक्रास सोसायटी के सचिव रणदीप श्योकंद के मोबाइल पर संपर्क किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें