त्यौहारों के साथ ही सजने लगे ड्राई फ्रूट के बाजार


ड्राई फ्रूट भी महंगाई की चपेट में  

नरेंद्र कुंडू 
जींद। दीपावली का त्यौहार नजदीक आते ही ड्राई फ्रूट के बाजार सजने लगे हैं। लोग मिठाइयों में मिलावट के चलते ड्राई फ्रूट में ही ज्यादा विश्वास जता रहे हैं। त्यौहारी सीजन पर अपने सगे सम्बंधियों को उपहार देने के लिए जमकर ड्राई फ्रूट की खरीददारी कर रहे हैं। इस बार लोग बंद पैकेट की बजाए खुदरा खरीदने में ही समझदारी दिखा रहे हैं। महंगाई के चलते इस बार ड्राई फ्रूट की कीमतों में भी 20 से 30 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है। इस समय बाजार में सबसे ज्यादा अमेरीकन बादाम व काजू की धूम मची हुई है। 
दीपावली पर्व नजदीक  आने के कारण बाजारों की रौनक बढऩी शुरू हो गई है। शहर में ड्राई फ्रूट के बाजार सजने लगे हैं। इस महंगाई की मार से ड्राई फ्रूट का बाजार भी अछूता नहीं रहा है। इस बार बादाम, काजू, किशमिश, छुहारे, पिस्ता, अखरोट गिरी, गुरमानी के दामों में 20 से 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इससे पैकेट की कीमतों में भी बढ़ौतरी तय है। बाजार में 100 रुपए से लेकर 1000 रुपए तक के ड्राई फ्रूट के डिब्बे उपलब्ध हैं। अबकी बार बाजारा में सबसे ज्यादा धूम अमेरीकन बादाम व काजू की है। ड्राई फ्रूट में सबसे ज्यादा उछाल काजू व पिस्ता की कीमत में हुआ है। ड्राई फ्रूट के बंद पैकटों से भी लोगों का विश्वास कम हुआ है। इसलिए लोग खुदरा खरीद कर पैक करवाने में ही ज्यादा समझदारी दिखा रहे हैं। इसलिए बाजार में रेहडिय़ों पर भी खुले ड्राई फ्रूट बिकते नजर आने लगे हैं। मिठाइयों में मिलावट की आशंका के कारण मिठाइयों से लोगों का मोह भंग हो चुका है। अब लोग ड्राई फ्रूट में ही ज्यादा विश्वास दिखा रहे हैं। जिस कारण पिछले पांच साल से मिठाई की बिक्री में कमी व ड्राई फ्रूट की बिक्री में 20 से 30 प्रतिशत की बढ़ौतरी हुई है। इसलिए त्यौहारी सीजन में सगे सम्बंधियों को उपहार देने के लिए जमकर ड्राई फ्रूट की ही खरीदारी कर रहे हैं। ड्राइ फ्रूट की मांग बढऩे के कारण शहर में ड्राई फ्रूट का कारोबार भी बढ़ा है। 

जिले में 10 करोड़ तक हो जाता है कारोबार

दीपावली के सीजन पर शहर में लगभग 300 के आस-पास दुकानदार ड्राई फ्रूट का काम करते हैं। पिछले 5 सालों से मिठाइयों व घी में हो रही मिलावट के कारण लोगों का रूझान मिठाई के प्रति कम हो रहा है तथा ड्राई फ्रूट का कारोबार बढ़ रहा है। इसलिए दीपावली के सीजन पर लोग जमकर ड्राई फ्रूट की खरीदारी करते हैं। इस दौरान शहर में ड्राई फ्रूट का 5 से 6 करोड़ रुपए तथा पूरे जिले में 10 करोड़ रुपए तक का कारोबार हो जाता है। 
ड्राई फ्रूट भी महंगाई की चपेट में 
इस बारे में जब ड्राई फ्रूड विक्रेता अखिल से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया लगातार बढ़ रही महंगाई का असर ड्राई फ्रूट पर भी साफ दिखाई दिया है। ड्राई फ्रूट के दामों में हुई वृद्धि के कारण यहां के दुकानदारों ने इनकी खरीददारी सीधे दिल्ली से करनी शुरू कर दी है। ड्राई फ्रूट का छोटा-मोटा कारोबार करने वाले दुकानदार पहले यहीं से ड्राई फ्रूट की खरीदारी करते थे, लेकिन अब वे भी त्यौहारी सीजन पर अधिक से अधिक पैसे कमाने के चक्कर में ड्राई फ्रूट की खरीदारी सीधे दिल्ली से करते हैं। 

ड्राई फ्रूट की कीमतें प्रति किलोग्राम

ड्राई फ्रूट का नाम पहले के भाव आज के भाव 
बादाम           400  450
काजू           420 680
दाख                   200 300
पिस्ता                   580 700
गुरमानी           150 200
अखरोड़ गिरी           650 700
किशमिश           200 260


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें