जींद जिले की राह पर बरवाला के किसान

कीटनाशकों से निजात पाने के लिए अपनाई कीट ज्ञान की पद्धति
हर बृहस्पतिवार को किया जाता है किसान खेत पाठशाला का आयोजन
बरवाला के किसानों को कीट ज्ञान का पाठ पढ़ा रहे हैं जींद के किसान 

नरेंद्र कुंडू 
जींद। बरवाला के किसान भी अब जींद जिले के किसानों की राह पर चल पड़े हैं। जींद जिले से लगभग 6 वर्ष पहले शुरू हुई कीट ज्ञान की पद्धति को बरवाला के किसानों ने अपना लिया है। कीट ज्ञान हासिल करने के लिए बरवाला के किसानों द्वारा जींद के किसानों की तर्ज पर किसान खेत पाठशाला की शुरूआत की गई है। हर बृहस्पतिवार को बरवाला के जेवरा गांव के खेतों में यहां के किसानों द्वारा किसान खेत पाठशाला का आयोजन किया जाता है। इस पाठशाला में बरवाला के किसानों को कीट ज्ञान देने के लिए जींद से कुछ मास्टर ट्रेनर किसान जाते हैं। जेवरा में लगने वाली इस पाठशाला में बरवाला के कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ उद्यान विभाग के अधिकारी भी भाग लेंगे।
फसलों में अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग के कारण दूषित हो रहे खान-पान तथा वातावरण को देखते हुए वर्ष 2008 में जींद जिले के किसानों ने डॉ. सुरेंद्र दलाल के नेतृत्व में निडाना गांव में किसान खेत पाठशाला की शुरूआत कर कीटों पर शोध का काम शुरू किया था। इस पाठशाला में कीटों पर चले शोध में यह बात निकलकर सामने आई थी कि कीटों को नियंत्रित करने के लिए कीटनाशकों की जरूरत नहीं है। कीटों को नियंत्रित करने के लिए तो फसल में काफी संख्या में मांसाहारी कीट मौजूद होते हैं, जो शाकाहारी कीटों को खाकर उन्हें नियंत्रित कर फसल में कुदरती कीटनाशी का काम करते हैं। इस शोध के दौरान डॉ. दलाल ने इस बात को साबित कर दिया था कि कीटनाशकों के प्रयोग से कीटों की संख्या कम नहीं होती बल्कि बढ़ती है। इसके बाद से ही यहां के किसानों ने कीटनाशकों का प्रयोग बिल्कुल बंद कर दिया था।

इस बार से बंद कर दिया कीटनाशकों का प्रयोग

फसलों को कीटों से बचाने के लिए हर वर्ष कीटनाशकों पर काफी रुपये खर्च होते हैं लेकिन उसके बाद भी कीट नियंत्रित होने की बजाए उनकी संख्या ओर बढ़ जाती है। इस बार उसके खेत में किसान खेत पाठशाला की शुरूआत हुई है, जिस खेत में पाठशाला चल रही है उस खेत में अभी तक एक भी छंटाक कीटनाशक का प्रयोग नहीं किया है। अभी तक उसकी फसल कीटों और बीमारी दोनों से सुरक्षित है लेकिन आस-पास के क्षेत्र में जिन-जिन फसलों में कीटनाशकों का ज्यादा प्रयोग हुआ है, उन-उन खेतों में सफेद मक्खी का प्रकोप काफी बढ़ा है और हालात ऐसे हो गए हैं कि फसल नष्ट होने के कगार पर पहुंच चुकी हैं। जींद से आने वाले मास्टर ट्रेनर किसान खेत पाठशाला में मौजूद अन्य किसानों को कीटों की पहचान करना तथा उनके क्रियाकलापों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हैं। इसके चलते अन्य वर्षों की भांति इस वर्ष कीटनाशकों के प्रति किसानों की सोच भी बदल रही है।
दलजीत, किसान
गांव जेबरा, बरवाला

जींद के मास्टर ट्रेनर किसान देतें हैं प्रशिक्षण 

जींद जिले में चल रही कीट ज्ञान की मुहिम को दूसरे जिलों में फैलाने के लिए बरवाला में भी इस बार किसान खेत पाठशाला की शुरूआत की है। यहां के किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए हर सप्ताह जींद के मास्टर ट्रेनर किसान यहां आते हैं। कीट ज्ञान की पद्धति के बारे में जानकारी लेने के लिए यहां के किसान काफी उत्सुक हैं। इससे किसानों को काफी फायदा पहुंच रहा है।
डॉ. बलजीत भ्याण
जिला उद्यान अधिकारी, हिसार
 बरवाला के जेवरा गांव में चल रही किसान खेत पाठशाला में कीटों के बारे में जानकारी लेते किसान। 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें