'आयुष' को संजीवनी का इंतजार


कंडम मशीनों के सहारे चल रहा मरीजों का उपचार

--मशीनें खराब होने के कारण सही विधि से नहीं हो पा रहा मरीजों का उपचार

--मरीजों को बाजार से खुद खरीदकर लाना पड़ता है तेल

नरेंद्र कुंडू 
जींद। सामान्य अस्पताल में स्थित जिला आयुर्वेदिक एवं पंचकर्म विभाग 'आयुष'  को संजीवनी का इंतजार हैं। यहां मरीजों के उपचार के लिए रखी ज्यादातर मशीनें कंडम हो चुकी हैं। कंडम मशीनों के सहारे ही मरीजों का उपचार चल रहा है। मशीनें खराब होने के कारण मरीजों का सही ढंग से उपचार नहीं हो पा रहा है। पचंकर्म केंद्र की ज्यादातर मशीनें खराब होने के कारण यहां मौजूद चिकित्सकों को जैसे-तैस कर काम चलाना पड़ रहा है लेकिन सही विधि से मरीजों को उपचार नहीं मिल पाने के कारण मरीजों को पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा है। पंचकर्म केंद्र के हालात ऐसे हो चुके हैं कि मरीजों की मालिश में प्रयोग होने वाला तेल भी खत्म हो चुका है। इसके चलते यहां गठिया बॉय, सरवाइकल, जोड़ों के दर्द इत्यादि बीमारी का उपचार करवाने के लिए आने वाले मरीजों को बाजार से तेल खरीद कर लाना पड़ता है। हालांकि पंचकर्म केंद्र के चिकित्सकों द्वारा कई बार लिखित में उच्च अधिकारियों को इस समस्या से अवगत करवाया जा चुका है लेकिन विभाग के उच्च अधिकारियों द्वारा इस तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
पंचकर्म केंद्र की बिल्डिंग का फोटो।

पंचकर्म केंद्र पर इन-इन बीमारियों का होता है उपचार 

सामान्य अस्पताल परिसर में स्थित जिला आयुर्वेदिक एवं पंचकर्म केंद्र पर सरवाइकल, कमर दर्द, जोड़ों के दर्द, गठिया बॉय, नजला, जुखाम, सिर दर्द, लकवा, मनोरोग सहित अन्य जटिल बीमारियों का उपचार आयुर्वेदिक पद्धित, पंचकर्म, होमोपेथिक तथा योग से किया जाता है। जिला पंचकर्म केंद्र पर हर रोज 30 से 40 मरीज उपचार के लिए पहुंचते हैं।

यह-यह मशीनें हैं खराब

जिला आयुर्वेदिक एवं पंचकर्म केंद्र पर मरीजों के उपचार के लिए सिरोधारा, स्टीम बॉथ, हैंडव्हील, जोगर मशीन, वैक्सबॉथ, एल्ट्रावायलर लैंप, इंफरा रेड लैंप मशीनें रखी गई हैं। इनमें से स्टीम बॉथ, सिरोधारा, जोगर मशीन, एल्ट्रावायलर लैंप खराब स्थिति में हैं। जब से यहां पंचकर्म केंद्र की स्थापना हुई है उसके बाद से इनकी एक बार भी रिपेयरिंग नहीं हो पाई है। पिछले कई वर्षों से यह मशीनें खराब हालत में स्टोर रूम में पड़ी हुई हैं। वहीं सरवाइकल, जोड़ों के दर्द आदि का उपचार तेल की मालिश से किया जाता है लेकिन पिछले कई माह से यहां तेल नहीं है। वहीं घुटनों के दर्द के उपचार में प्रयोग होने वाल मोम भी कई वर्ष पुराना है। आज तक इस मोम को भी नहीं बदला गया है।

मशीन खराब होने से सही विधि से नहीं हो पा रहा उपचार

बखताखेड़ा निवासी चंद्र सिंह का फोटो।
कमर दर्द व घुटनों में काफी दर्द था। पिछले आठ-दस दिन से यहां उपचार करवा रहा हूं। यहां उपचार करवाने से काफी राहत मिली है। दर्द की वजह से पहले चलने फिरने में काफी दिक्कत होती थी लेकिन अब काफी आराम है। जोड़ों के दर्द के उपचार में प्रयोग होने वाली स्टीमबॉथ नामक मशीन खराब पड़ी है। इसके चलते सही विधि से पूरा उपचार नहीं मिल पा रहा है। यदि यह मशीन ठीक होती तो सही विधि से उपचार मिलने से बीमारी में जल्द आराम मिल जाता।
चंद्र सिंह, बखताखेड़ा निवासी

अपनी जेब से खरीद कर लाना पड़ता है तेल

मिर्चपुर निवासी राजेश का फोटो।
पिछले एक माह से पंचकर्म केंद्र पर कमर दर्द का उपचार करवा रहा हूं। उपचार से काफी राहत मिली है। यहां मौजूद चिकित्सकों द्वारा अच्छी तरह से उपचार किया जाता है लेकिन पिछले कई दिनों से मालिश में प्रयोग होने वाला तेल खत्म है। अपनी जेब से बाजार से तेल खरीद कर अपना उपचार करवाना पड़ता है। बाजार में यह तेल काफी महंगे रेट पर मिलता है। यदि विभाग द्वारा यहां तेल भी मुहैया करवा दिया जाए तो मरीजों को बाजार से महंगे रेट पर तेल नहीं खरीदना पड़ेगा।
राजेश मिर्चपुर निवासी

बांए कंधे में पिछले काफी दिनों से हो रहा हैं दर्द 

पटियाला चौक निवासी देवीचंद का फोटो।
दर्द के कारण काफी परेशान था। 10-12 दिन पहले ही यहां से उपचार शुरू करवाया है। उपचार के बाद काफी राहत मिली है लेकिन उपचार में प्रयोग होने वाला तेल खत्म होने के कारण बाजार से अपने पैसों से तेल खरीद कर लाना पड़ रहा है। वहीं घुटनों के दर्द के उपचार में प्रयोग होने वाला मोम भी काफी पुराना है। यदि विभाग द्वारा यहां पूरी सुविधाएं उपलब्ध करवा दी जाएं तो पंचकर्म विधि मरीजों के लिए रामबाण सिद्ध हो सकती है और मरीजों को बिना पैसा खर्च किए यहां अच्छा उपचार मिल सकता है।

देवीचंद पटियाला चौक निवासी

उच्च अधिकारियों को लिखित में भेजा गया है पत्र

पंचकर्म केंद्र के चिकित्सकों की तरफ से नई मशीनों के लिए जो रिक्वायरमेंट भेजी जाएगी, उसके आधार पर नई मशीनें मंगवाई जाएंगी। पंचकर्म केंद्र पर ऑयल खत्म होने की सूचना मिली थी। ऑयल मंगवाने के लिए उच्च अधिकारियों को लिखित में पत्र भेजा गया है। उपर से जैसे ही ऑयल आ जाएगा पंचकर्म केंद्र पर ऑयल मुहैया करवा दिया जाएगा।
डॉ. धर्मपाल सिंह
पंचकर्म केंद्र में खराब हालत में रखी जोगर मशीन।
जिला आयुर्वेदिक अधिकारी, जींद





 पंचकर्म केंद्र में खराब हालत में रखी स्टीमबॉथ की मशीन।





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विदेशों में भी मचा रहे हरियाणवी संस्कृति की धूम

किसानों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बना ईगराह का मनबीर रेढ़ू

अब किसानों को कीट साक्षरता का पाठ पढ़ाएंगी खापें