Monday, 13 August 2012

‘कीड़ों’ की पढ़ाई पढ़ने के लिए निडाना आएंगे पंजाब के किसान

नरेंद्र कुंडू
जींद।
जिले के निडाना गांव के कीट मित्र किसानों की मेहतन अब रंग लाने लगी है। निडाना गांव के खेतों से शुरू हुई जहरमुक्त खेती की गुंज अब जिले ही नहीं बल्कि दूसरे प्रदेशों में भी सुनाई देने लगी है। जिससे प्रेरित होकर दूसरे प्रदेशों के किसान भी अब कीटनाशक रहित खेती के गुर सीखने के लिए निडाना की ओर रूख करने लगे हैं। सोमवार को जिला नवां शहर (पंजाब) के 35 किसानों का एक दल कृषि अधिकारियों के साथ दो दिवसीय अनावरण यात्रा पर निडाना की 12 ग्रामी किसान खेत पाठशाला में पहुंच रहा। इस दौरान किसानों का यह ग्रुप निडाना के कीट मित्र किसानों से कीट प्रबंधन पर चर्चा करेगा तथा कीट नियंत्रण व किसान खेत पाठशाला के तौर तरीके सीखेगा। इन किसानों के रहने व खाने का प्रबंध भी निडाना गांव के किसानों द्वारा खुद अपने स्तर पर किया जाएगा। इस दौरान इनके बीच विश्व प्रसिद्ध कीट वैज्ञानिक डा. सरोज जयपाल भी मौजूद रहेंगी।
किसानों को कीट प्रबंधन के गुर सीखा कर लोगों की थाली में बढ़ते जहर को कम करने के लिए निडाना गांव के किसानों द्वारा शुरू की गई यह मुहिम दूसरे प्रदेशों में भी फैलने लगी है। निडाना के खेतों से शुरू हुई कीटनाशक रहित खेती की इस क्रांति को पंजाब में फैलाने का बीड़ा अब जिला नवां शहर के किसानों ने उठाया है। इस क्रांति को पंजाब में सफल बनाने के लिए पंजाब का कृषि विभाग भी किसानों का पूरा सहयोग कर रहा है। वहां के कृषि विभाग के अधिकारियों ने नवां शहर के किसानों को कीट प्रबंधन तथा कीटनाशक रहित खेती की ट्रेनिंग दिलवाने के लिए 35 किसानों के एक दल का गठन किया है। यह दल अब सोमवार को दो दिवसीय ट्रेनिंग के लिए निडाना में पहुंच रहा है। इस दल में शामिल किसानों के रहने व खाने का प्रबंध खुद निडाना गांव के किसानों द्वारा अपने स्तर पर किया गया है। इसमें खास बात यह है कि पंजाब से आने वाले इन किसानों का रात को ठहरने का प्रबंधन किसी चौपाल, स्कूल या धर्मशाला में नहीं बल्कि निडाना के किसानों ने खुद अपने ही घर में किया है। निडाना के ग्रामीणों द्वारा इन किसानों का चार-चार, पांच-पांच का समूह बनाकर एक-एक घर में ठहराया जाएगा। ताकि नवां शहर के ये किसान खाना खाने के बाद रात को निडाना के किसानों के परिवार के साथ बैठकर उनके खेती के तौर-तरीकों व कीट प्रबंधन पर उनके साथ खुल कर चर्चा कर इसे अच्छी तरह से समझ सकें।

किस-किस किसान के घर में होगा रात्रि ठहराव

पंजाब से आने वाले किसानों के रात्रि ठहराव व खाने की व्यवस्था की जिम्मेदारी निडाना गांव के दस किसानों को सौंपी गई है। जिसमें वीरेंद्र मलिक, रतन सिंह, रघुवीर सिंह, सत्यवान, कप्तान, राजेंद्र सिंह, रमेश मलिक, बलराज, विनोद, राजवंती। रात्रि के भोजन के पश्चात इन किसानों को कीटों की पहचान के लिए लैपटॉप पर कीटों के चित्र भी दिखाए जाएंगे।

क्या रहेगा किसानों का शैड्यूल

दो दिवसीय यात्रा पर आने वाले किसानों का समय व्यर्थ न जाए इसके लिए निडाना के किसानों ने पहले से ही पूरा शैड्यूल तैयार कर रखा है। पंजाब के किसान सोमवार सायं 5-6 बजे के करीब निडाना पहुंचेगे। यहां पहुंचने के बाद रात को खाना खिलाने के बाद इन किसानों को लैपटॉप पर कीटों की पहचान के लिए कीटों के चित्र दिखाए जाएंगे। इसके बाद मंगलवार सुबह आठ बजे ये किसान निडाना गांव की किसान खेत पाठशाला में कीट सर्वेक्षेण में भाग लेंगे तथा यहां कीट-बही खाता तैयार करना सीखेंगे। इसके बाद निडानी गांव के किसानों के घर लंच करेंगे। यहां पर लंच के बाद निडानी के जयभगवान व महाबीर पूनिया के खेतों का सर्वेक्षण कर इनके द्वारा बोई गई कपास व मुंग की मिश्रित खेती तथा घर से तैयार कर बोई गई बीटी कपास की फसल का निरीक्षण करेंगे। इसके बाद अलेवा में प्रगतिशील किसान जोगेंद्र सिंह लोहान के खेत में जाकर कीटनाशक रहित धान की फसल की तुलना आस-पड़ोस की फसलों के साथ करेंगे। यहां पर जलपान कर वापिस पंजाब के लिए रवाना होंगे।

मुख्य कृषि अधिकारी ने पहले स्वयं किया था निरीक्षण

निडाना गांव में चल रही किसान खेत पाठशाला के चर्चे सुनने के बाद नवां शहर (पंजाब) के मुख्य कृषि अधिकारी डा. सर्वजीत कलंदरी मई माह में यहां स्वयं निरीक्षण के लिए आए थे। ताकि इस पाठशाला की वास्तविकता को परखा सकें। मुख्य कृषि अधिकारी ने निडाना के किसानों के कीट ज्ञान को खुब झाड़-परखने के बाद ही अपने जिले के किसानों की टीम को यहां भेजने का निर्णय लिया था।

No comments:

Post a Comment